- कोरोना के बाद अचानक मौतों पर हुआ अध्ययन

नई दिल्ली। कोरोना के बाद से विभिन्न समारोहों में नाचते गाते या जिम में व्यायाम करने के दौरान अचानक मौत के मामले सुर्खियों में रहे हैं। ऐसे मामलों में अक्सर वीडियो देखकर मौत का कारण कार्डियक अरेस्ट (अचानक हृदय गति बंद हो जाना) मान लिया जाता है। बहुत हद तक यह बात सही भी है। हालांकि, एम्स के फारेंसिक विभाग द्वारा किए गए एक अध्ययन की प्राथमिक रिपोर्ट में पाया गया है कि ऐसे करीब 22 प्रतिशत मामलों में सांस रुकने से लोगों की अचानक जान गंवाई। एम्स के फारेंसिक विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. सुधीर गुप्ता ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। उन्होंने ऐसे मामलों के लिए प्रदूषण को भी एक कारण बताया। डॉ. सुधीर गुप्ता ने बताया कि कोरोना के बाद युवाओं के अचानक मौत के मामले बढ़ने पर भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने इस पर एक शोध करने की जिम्मेदारी दी है। जिसमें यह देखा जा रहा है कि मौत का कारण कोरोना के बाद की समस्याएं या टीके का किसी तरह दुष्प्रभाव तो नहीं है। इस अध्ययन की प्राथमिक रिपोर्ट में कोरोना के बाद की समस्याओं या टीके के कारण मौत की पुष्टि नहीं हुई। इसलिए टीके से जोखिम नहीं है। उन्होंने बताया कि पिछले वर्ष यह अध्ययन शुरू किया गया था। 18 से 65 वर्ष की उम्र के 132 मृतकों पर अध्ययन किया गया है, जिनकी मौत अचानक हुई थी। इसमें 18 से 45 वर्ष की उम्र के युवा अधिक (71) थे और 46 से 65 वर्ष की उम्र के 37 मृतकों के शव थे। इस अध्ययन में 87 प्रतिशत पुरुष व 13 प्रतिशत महिलाएं शामिल थीं। यह आंकड़े बताते हैं कि पुरुष अचानक मौत के शिकार अधिक हुए।अध्ययन में शामिल शवों का वर्चुचल अटोप्सी (डिजिटल एक्स-रे व सीटी स्कैन कर पोस्टमार्टम), परंपरागत तरीके से पोस्टमार्टम व मालिक्यूलर आटोप्सी कर मौत के कारणों का पता लगाने कोशिश की गई। जिसमें 49.24 प्रतिशत मरीजों की मौत अचानक हार्ट अटैक व कुछ मरीजों की मौत हेमरेज होने के कारण हुई थी। इस तरह हृदय रक्तवाहिनियों की बीमारियों से 52.27 प्रतिशत मरीजों की मौत हुई।

Comments About This News :

खबरें और भी हैं...!

वीडियो

देश

इंफ़ोग्राफ़िक

दुनिया

Tag