- भारत को नजरअंदाज करने वाले देश आज भारत से हाथ मिलाने की कर रहे कोशिश: मोहन भागवत

नई दिल्ली । आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत एक सभा में अपने भाषण के दौरान नए भारत की तारीफ करते नजर आए। इन्होंने कहा कि पहले के भारत और अब के भारत में काफी अंतर है। जहां दूसरे देश पहले भारत को नजरअंदाज करके चीन और पाकिस्तान से हाथ मिलाता था, उसको जरूरत के समय भारत ने सहारा दिया। मोहन भागवत ने कहा, कुछ देश विकसित होकर अपनी शक्ति का प्रयोग करने का प्रयास करते हैं। पहले रूस ऐसा कर रहा था, फिर अमेरिका ने अधिकार कर लिया। अब चीन आ गया है, लगता है चीन अब अमेरिका से आगे निकल जाएगा। इसी तरह एक बार फिर यूक्रेन को मोहरा बनाकर रूस और अमेरिका लड़ रहे हैं। आरएसएस प्रमुख ने कहा, अमेरिका और रूस दोनों देशों ने भारत से मदद मांगी थी, लेकिन भारत ने कहा कि आपकी लड़ाई के बीच जो (यूक्रेन) मर रहा है, वो भी मेरा दोस्त है, पहले मैं उसको राहत पहुंचाता हूं, अभी मैं किसी का पक्ष नहीं लूंगा। ये लड़ाई का जमाना नहीं, लड़ना बंद करो। उन्होंने कहा, यह कहने के लिए भारत खड़ा हुआ है, जिसकी पहले हिम्मत नहीं होती थी। मोहन भागवत ने कहा, श्रीलंका पहले चीन और पाकिस्तान के पास मदद के लिए भागता था, लेकिन जब वो मुसीबत में पड़ा तो उसकी मदद के लिए सबसे पहले भारत सामने आया। भारत दूसरे देशों से लाभ ले रहा है, लेकिन जब इसके कमाए हुए लाभ की जरूरत किसी और को पड़ती है, तो भारत देने वाला देश है। जो देश पहले भारत को नजरअंदाज करते थे, वे आज भारत से हाथ मिलाने के लिए बेताब हैं।

Comments About This News :

खबरें और भी हैं...!

वीडियो

देश

इंफ़ोग्राफ़िक

दुनिया

Tag